02-02-2023

भाकृअनुप - भारतीय मक्का अनुसंधान संस्थान

ICAR - Indian Institute of Maize Research

(ISO 9001:2015 certified)

Nurturing Diversity, Resilience, Livelihood & Industrial Inputs

विश्व मक्का परिदृश्य

मक्का, अनुकूलनशीलता, प्रकारों और उपयोगों के नजरिये से अनाजों में सबसे बहुमुखी फसल है। यह दुनिया में दूसरी सबसे व्यापक रूप से उगाई जाने वाली फसल है जिसे सभी जलवायु परिदर्श्य जैसे समशीतोष्ण, उष्णकटिबंधीय एवं उप-कटिबंधों में उगाया जाता है। मक्का के कई प्रकार होते हैं जैसे सामान्य मक्का, स्वीट कॉर्न, पॉपकॉर्न और बेबी कॉर्न। सामान्य मक्का भी भिन्न-भिन्न प्रकार की हो सकती है जैसे गुणवत्ता प्रोटीन मक्का (QPM), मोमी मक्का, उच्च-तेल मक्का आदि। मक्का, भोजन, चारे और औद्योगिक कच्चे माल के लिए एक महत्वपूर्ण फसल है। वर्तमान में, लगभग 1147.7 मिलियन मीट्रिक टन मक्का का उत्पादन 193.7 मिलियन हेक्टेयर के क्षेत्र में 170 से अधिक देशों द्वारा एक साथ किया जा रहा है, जिसकी औसत उत्पादकता 5.75 टन/हे. (FAOSTAT, 2020) है। मक्का का वैश्विक खपत पैटर्न है: चारा (फ़ीड)-61%, खाद्य -17% और उद्योग -22%। इसने विश्व स्तर पर औद्योगिक फसल की स्थिति प्राप्त कर ली है क्योंकि दुनिया में इसके उत्पादन का 83% हिस्सा फ़ीड, स्टार्च और जैव ईंधन उद्योगों में उपयोग किया जाता है। इसके अलावा, मक्का का प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से 3000 से अधिक उत्पादों में उपयोग करके मूल्यवर्धन के व्यापक अवसर उपलब्ध कराए जा रहे हैं। अपने असंख्य उपयोगों के कारण, यह वैश्विक कृषि अर्थव्यवस्था का एक प्रमुख चालक है।